Home India News बाली वध की कथा सुन भावविभोर हुए भक्त

बाली वध की कथा सुन भावविभोर हुए भक्त

247
0
SHARE

बनकटी – बस्ती(राजेश शुक्ल)

सदर विकास खंड के समसपुर में चल रहे नौ दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के चौथे दिन अयोध्या से पधारे कथा व्यास अर्जुन दास जी महाराज ने भागवत महापुराण की महिमा का व्याख्यान किया। उन्होंने कहा भागवत कथा जीवात्मा को परमात्मा से जोड़ने वाली है।यह जीवन को धन-धान्य और सुख समृद्धि देने वाली है।
श्री राम चरित मानस के बाली वध की कथा सुन भक्त भाव विभोर हो उठे। महाराज जी ने कहा बाली अपनी अंतिम सांस ले रहा था उसने भगवान राम से कहा मैं भाई सुग्रीव को गले लगाना चाहता हूं।यह सुनकर सुग्रीव सहम गया जब बाली के भाव को सुग्रीव समझा फूट फूट कर रोने लगा।बाली ने कहा धन्य हो सुग्रीव जैसा भाई जिससे मैंने बैर किया उसी ने मुझे अंत समय भगवान से मिलाया। जब भी मेरा जन्म हो सुग्रीव जैसा भाई हर जन्म में मिले। यज्ञाचार्य पंडित अशोक मिश्र ने वैदिक मंत्रों द्वारा विध विधान से पूजन कराया। तथा यजमानों को अनुष्ठान का महत्व समझाया।कथा में लक्ष्मी गुप्ता, गुजराती देबी,शान्ती, पार्वती, कन्हैया लाल, गुड्डू, प्रमोद,छाया देबी, माधुरी,सुशीला,सरोज सिंह, पुजारी सिंह, कृष्ण भगवान सिंह,कुबेर आदि भक्त मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here