Home आंध्र प्रदेश नोटबंदी पर हंगामे के बीच लोकसभा में सब सुनते रहे पीएम, बोले...

नोटबंदी पर हंगामे के बीच लोकसभा में सब सुनते रहे पीएम, बोले कुछ नहीं

259
0
SHARE

संसद के शीतकालीन सत्र में नोंटबंदी पर पीएम के भाषण के लिए विपक्ष अड़ा हुआ है। लगातार विपक्ष के हमलों के बाद सत्र के छठे दिन पीएम मोदी लोकसभा में मौजूद थे। संसद में पीएम की मौजूदगी के बाद भी विपक्ष के हमले कम नहीं हुए।
दोनों सदनों में इस दौरान जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष के तीखे तेवरों का अंदाजा बुधवार सुबह उस वक्त ही हो गया, जब विपक्ष संसद परिसर की गांधी प्रतिमा के बाहर संयुक्त रूप से धरने पर बैठ गया।
पीएम लोकसभा में विपक्ष के आरोपों को सुनते तो रहे, लेकिन बोले कुछ नहीं। लोकसभा में विपक्ष के भारी हंगामे के बाद आखिरकार सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।
‘हंगामा विपक्ष की आदत बन गया है’

dcbf149a0407c22644c520ac9c901bd9

संसद में विपक्ष के हंगामे पर संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने कहा हंगामा विपक्ष की आदत में आ गया है। वहीं केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने भी केंद्र सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि सरकार इस मामले पर चर्चा के लिए तैयार है।
सरकार के इस आश्वासन के बावजूद विपक्ष अपनी मांग पर अड़ा रहा। विपक्ष स्थगन के प्रस्ताव के तहत चर्चा की मांग कर रहा था। जब हंगामा शांत नहीं हुआ तो लोकसभा स्पीकर ने सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी।
वहीं राज्यसभा में भी विपक्ष ने भारी हंगामा किया, जिसके चलते सदन को दो बजे तक स्थगित कर दिया गया।
संसद में आकर विपक्ष को सुनें मोदी: मायावती
0690f975d4161c81e38260514caba744

शीतकालीन सत्र में मचे घमासान के बीच मायावती ने फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। बुधवार को उन्होंने कहा कि नोटबंदी के मुद्दे पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तलब करें।
संसद में आकर विपक्ष को सुनें मोदी।
काले धन पर लिए गए फैसले का विरोध नहीं।
राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को समन भेजें और लोगों को हो रही समस्या को सुलझाने के लिए कदम उठाने के लिए कहें।
प्रधानमंत्री ने इतना अच्छा काम किया है तो वह घबरा क्यों रहे हैं।
संसद में आने से क्यों डर रहे हैं पीएम: राहुल गांधी

7d39e3070b9427173cbc37205571efca

मोदी के फैसले नोटबंदी पर प्रश्न उठाते हुए राहुल ने कहा कि इस फैसले के बारे में देश के वित्तमंत्री तक को नहीं मालूम था। इस फैसले की वजह से करोड़ों लोगों का नुकसान हुआ है। मोदी कंसर्ट में भाषण दे सकते हैं।
नाच-गाने के बीच भाषण दे सकते हैं। लेकिन संसद में आने से क्यों डर रहे हैं। संसद में न आने की कोई तो वजह होगी। आखिर पीएम संसद को फेस करने से क्यों बच रहे हैं।
राहुल ने कहा कि हमारी मांग है कि प्रधानमंत्री को नोट बंदी की पूरी डिबेट में बैठना चाहिए। सभी नेताओं की बातें सुननी चाहिए और अपना जवाब देना चाहिए। इस पूरे फैसले से घोटाले की बू आ रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here